न्यूजीलैंड में General elections, जैसिंडा की नजर बहुमत पर

न्यूजीलैंड में General elections, जैसिंडा की नजर बहुमत पर

न्यूजीलैंड के आम चुनाव में लाखों मतदाताओं ने शनिवार को मतदान केंद्रों की ओर रुख रहे हैं। प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न की नजर अपने दूसरे कार्यकाल के लिए बहुमत हासिल करने पर है। यह चुनाव पहले 19 सितंबर को होने वाला था, लेकिन कोविड-19 की दूसरी लहर के कारण इसे स्थगित कर दिया गया था।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, पिछली बार संसदीय चुनाव 23 सितंबर, 2017 को हुआ था। बीते 6 सितंबर को संसद को भंग कर दिया गया, ताकि चुनाव के लिए आधिकारिक रूप से मार्ग प्रशस्त हो सके।

देशभर के मतदान केंद्र सुबह 9 बजे खुले और शाम 7 बजे बंद होंगे।

3 अक्टूबर को शुरू हुए शुरुआती मतदान में 10 लाख से अधिक लोग पहले ही मतदान कर चुके हैं।

शनिवार को शाम 7 बजे मतदान खत्म होने के बाद आम चुनाव के प्रारंभिक परिणाम जारी किए जाएंगे।

आयोग के अनुसार, चुनाव परिणामों को प्राथमिकता दी जाएगी और शनिवार रात दो जनमत संग्रहों में दर्ज वोटों की गिनती नहीं की जाएगी।

प्रारंभिक जनमत संग्रह के परिणाम 30 अक्टूबर को जारी किए जाएंगे और चुनाव और जनमत संग्रह के आधिकारिक परिणाम 6 नवंबर को जारी किए जाएंगे।

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, इस बीच के मत सर्वेक्षण पर गौर करें तो जैसिंडा बहुमत के साथ दूसरी बार पद पर आसीन हो सकती हैं। उनके कोरोनावायरस प्रकोप से उबरने के लिए चलाए गए अभियान के सफल रहने से यह संभावना बढ़ी है।

हालांकि साल 1996 में मिक्स्ड मेंबर प्रोपर्शनल रिप्रेजेंटेटिव (एमएमपी) के रूप में जानी जाने वाली संसदीय प्रणाली की शुरुआत से ही अभी तक किसी भी पार्टी ने न्यूजीलैंड में एकतरफा बहुमत नहीं जीता है।

ऑकलैंड विश्वविद्यालय की प्रोफेसर जेनिफर कर्टिन ने बीबीसी को बताया कि पूर्व में भी ऐसी ही परिस्थितियां रही हैं, जहां एक नेता के बहुमत हासिल करने की पूरी संभावना थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

उन्होंने कहा, “जब जॉन की नेता थे, तो ऑपिनियन पोल ने उनके 50 प्रतिशत वोट पर अपनी संभावना जताई थी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं।”

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

Post a Comment

From around the web